बेटियों का किस तरा से ध्यान रखे, Bachho Ka Kis Tarah se Rakhe Dhyan

Apne Bachho Ka Kis Tarah se Dhyan Rakhe | अपने बहन बेटियों का किस तरा से ध्यान रखे

अपने बहन बेटियों का अच्छी तरा से ध्यान रखना है तो एक हप्ते में एक बार आपकी जिम्मेदारी बनती है की आपका बच्चा क्या कर रहा है इसका भी आपको परिक्षण करना चाहिए आपको शक करना चाहिए की मेरा बच्चा कहा जाता है? और क्या करता है?

आपने थोड़ा सा भी ध्यान दिया तो आपके बच्चो का भविस्य में होने वाले अनचाहे बनावो से बचा जा सकता है और आपको किसी भी तरा की हानी होने से बचा जा सकते है तो चलिए दोस्तों आज हम इस पोस्ट की माध्यम से जानेगे की अपने बच्चो के प्रति किन किन बातो का हमें ध्यान रखना चाहिए ताकि हमारा और हमारे बच्चों का भविष्य सुंदर बना रहे है।

खास कर लड़कियों के माता पिता को अपने बेटी का बहोत ध्यान रखने की जरुरत है अगर अपनी बेटियों के प्रति ध्यान नहीं दिया तो इसके कई रिजल्ट आप न्यूज़ में देखने को मिलते है की आज कल कैसे कैसे हादसे हो रहे है।

Bachho Ka Kis Tarah se Dhyan Rakhe

Bageshwar Dham

एक बार काम , नौकरी , व्यापार धंधे से फुर्सत मिल जाये तो देख लेना कि आपकी बेटी ,या बेटे क्या करते है।

  • कोचिंग ही जा रही है न
  • मोबाइल में पासवर्ड तो नहीं है।
  • स्नेप चेट का इस्तेमाल कर रही हो तो चेट डिलीट का आप्शन तो नहीं है।
  • घंटों अपने कमरे में या अपने दोस्तों के साथ तो समय नहीं बिता रही है।
  • प्रोजेक्ट है, प्रोजेक्ट है कहकर दोस्तों के घर बार बार तो नहीं जा रही।
  • अगर आपकी बेटी का स्कूल आपसे सच्चाई कहे तो स्कूल की बात गंभीरतापूर्वक सुनें न कि गुस्सा हों।
  • कपडे और पहनावा मर्यादा मे तो हैं ना।
  • देर रात तक फोन का इस्तेमाल तो नही किया जा रहा है ना।
  • अगर बेटी कंही बाहर हॉस्टल मे रहती है तो बिना बताए अचानक कभी-कभार मिलने पहुच जाए।
  • बेटी के सहेलियो से बेटी के बारे मे फीडबैक लेते रहें
  • शापिंग के लिए भले ही सहेलिया साथ मे जा रही हो लेकिन परिवार का कोई न कोई सदस्य भी साथ मे जाए
  • एक्स्ट्रा क्लास के नाम पर विशेष सतर्क रहें।
  • बेटी के दोस्त और सहेलिया कौन है उनका व्यवहार चरित्र और चाल चलन कैसा है इसपर विशेष नजर रखें।
  • घर के सभी तीज त्यौहारो पूजा-पाठ एक धार्मिक कार्यो मे शामिल करें।
  • अपने धर्म का ज्ञान दे अच्छी बुक पढ़ने की प्रेरणा दे गीता, रामायण, महाभारत, गरुड़पुराण ये सब ग्रंथ पुस्तके अपने बच्चो को पढ़ाये
  • यूट्यूब पे भी धार्मिक एपिसोड देखने की सलाह दे
  • समाज मे घट रही श्रद्धा जैसी घटनाओ से उन्हे अवगत कराएं।
  • अपनी लड़की को जरूर पढाएँ,आजादी दें मगर इतनी भी नहीं कि वो जंगलों में टुकड़े हो जाए, आपकी सतर्कता ही बचाव है अन्यथा ये एक ऐसी उम्र होती है कि कोई भी बहक सकता है।

क्यों की हर बेटी भारत की बेटी है और हमारे बेटी की रक्षा करना हमारा पहला धर्म है। दोस्तों सावधान रहे सतर्क रहे।

बच्चों का ध्यान कैसे रखें | BABY CARE TIPS IN HINDI | बच्चो को माता-पिता के संस्कार कैसे सिखाये 

Leave a Comment